June 19, 2021

लगातार हो रही बारिश और ओलावृष्टि से जिले के किसान बेहाल

बागेश्वर। पिछले 25 दिन से लगातार हो रही बारिश और ओलावृष्टि से जिले के किसान बेहाल हो गए हैं। बारिश का सबसे अधिक असर कांडा, कपकोट और गरुड़ तहसील में देखने को मिल रहा है। कांडा में किसान अभी तक अपने गेहूं की मढ़ाई तक नहीं कर पाए हैं। खेतों से गेहूं की बाली काटकर गोठ में रख दिया है। अब गेहूं की बाली जमने लगी है। कुछ लोगों ने घर के पास ढेर बनाकर रख दिए हैं। इसके अलावा फल उत्पादन को भी मौसम में झटका दे दिया है। आम से लेकर लीची तक प्रभावित हो गई है। मालूम हो कि जिले में 17 अप्रैल से लगातार बारिश हो रही है। पिछले एक सप्ताह से लगातार ओलावृष्टि भी हो रही है। इससे किसान खासे परेशान हो गए हैं। बारिश का सबसे अधिक असर कमस्यारघाटी, गरुड़ तथा कपकोट ब्लॉक में हुआ है। यहां किसान अपने गेहूं की फसल तक नहीं समेट पा रहे हैं। 15 दिन पहले गेहूं पकने के बाद किसानों से बाली काटकर घर पहुंचा दिए। अब वह उनकी मढ़ाई नहीं कर पा रहे हैं। कुछ किसानों ने गेहूं की बाली का घर के आगे ढेर लगा दिया है तो कुछ ने कमरों में ढूंस दिया है। लगातार बारिश से गेहूं सूख ही नहीं पा रहा है। जिन कमरों में बाली रखी है अब उनमें गेहूं अंकुरित होने लगा है। इसके अलावा आलू, शिमला मिर्च, कद्दू, बीन्स आदि बेल वाली सब्जी को भी ओलों से भारी नुकसान हुआ है। े गांव में कई किसान अखरोट की खेती कर रहे हैं। ओलों की मार से इस बार उनकी फसल चौपट हो गई है। इतने बड़े ओले पड़े कि पॉलीहाउस में भी छेद हो गए। ओलों से आम, लीची और अमरूद आदि फल भी नष्ट हो गया है। किसानों से कृषि और उद्यान विभाग से नुकसान की भरपाई करने की मांग की है।

Shares
error: Content is protected !!