June 19, 2021

संक्रमण कम नहीं हो रहा है, जांच कम की रही है ऐसे हो रहा है कोरोना को रोकने का खेल

देहरादून । उत्तराखंड में कोरोना संक्रमण कम नहीं हो रहा है, जांच कम की रही है। जी हां यदि आप ये सोच रहे हैं कि कोरोना का असर कम होने लगा है तो ये आपकी गलत फहमी है। यहां कोरोना को रोकने के लिए सरकार अब खेल कर रही है। ताकि सरकार की विफलता को छिपाया जा सके। जबकि संक्रमितों की संया में लगातार वृद्धि हो रही है। इसके साथ ही आरटीपीसीआर जांच में बीते दिनों के मुकाबले खासी कमी भी आई है।
राय में बीते दो हतों में जांच के आंकड़ों की तुलना की जाए तो 62 हजार का अंतर है यानी बाद वाले हते में इतनी जांचें कम हुईं। सात मई तक दून में रोज 10 हजार से यादा जांच की जा रही थी, जो सोमवार को घटकर 8421 तक सिमट गई। वहीं, हरिद्वार में भी टेस्टिंग काफी घट गई है। यहां पांच मई के मुकाबले कोरोना टेस्टिंग महज एक चौथाई रह गई है। उत्तराखंड में 25 अप्रैल से एक मई के बीच 2.78 लाख कोरोना जांचें हुईं। दो से नौ मई तक 2.15 लाख नमूने जांच को भेजे गए।
जबकि इसी अवधि में राय में कोरोना के सर्वाधिक मामले आए। इन दोनों हतों में हर दिन औसतन नौ हजार जांचें कम की गईं। इस दौरान राय के बड़े जिलों में आरटीपीसीआर सैंपल लेने में भी कमी आई। खासतौर पर, दून-हरिद्वार में सैंपलिंग कम हो गई। देहरादून में सात मई से पहले तक 10 हजार सैंपलिंग हो रही थी, पर अचानक आंकड़ा कम होने लगा और अब हर दिन करीब साढ़े आठ हजार सैंपल ही लिए जा रहे हैं। इसी तरह हरिद्वार में सात मई को 5665 सैंपल लिए गए। दस मई को यह आंकड़ा भी घटकर 5055 पर आ गया। यहां टेस्टिंग तेजी से कम हुई है। मतलब-सैंपल लेने के बाद टेस्टिंग की गति धीमी पड़ी है। यहां पांच मई को 16,508 सैंपल जांचे गए और इसके बाद तो कोरोना की टेस्टिंग लगातार कम होती चली गई। बीते सोमवार को हरिद्वार जिले में सिर्फ 2,555 कोरोना टेस्ट हुए।
यहां स्थिति चिंताजनक
बागेश्वर में आठ मई को 1630 लोगों के सैंपल लिए गए। इसके बाद नौ मई को 127 और 10 मई को 479 लोगों की सैंपलिंग हुई। यह हाल तब है, जब यहां कोरोना मामलों में लगातार वृद्धि दर्ज की जा रही है। उधर, पिथौरागढ़ जिले में सात मई को 970 सैंपल लिए गए। पर, इसके बाद यह संया घटते हुए 10 मई को 656 पर सिमट गई।
यहां बेहतर सैंपलिंग
अल्मोड़ा और चपावत जिले सैंपलिंग के मामले में निरंतरता बनाए हुए हैं। नौ मई को अल्मोड़ा में सिर्फ 98 सैंपल लिए गए थे, बाकी यहां हर दिन छह सौ से सात सौ सैंपल लिए जा रहे हैं। चपावत जिले में पिछले पांच दिन से हर रोज एक हजार से यादा लोगों के सैंपल लिए जा रहे हैं। नैनीताल में भी हर दिन सैंपलिंग का औसत दो हजार से यादा है

Shares
error: Content is protected !!