June 19, 2021

बागेश्वर में गुलदार ने की दीवाली काली, 7 साल का मासूम बना निवाला

बागेश्वर ( आखरीआंख समाचार ) बागेश्वर के द्यांगण में सात साल के बच्चे को गुलदार ने निवाला बना लिया। घटना उस वक्त की है, जब बच्चा आंगन में खेल रहा था। तभी घात लगाए बैठे गुलदार ने बच्चे पर हमला बोल दिया। इसके बाद से ही ग्रामीणों में रोष व्याप्त है।
बागेश्वर जिले में गुलदार का आतंक बढ़ता ही जा रहा है। अब तक गुलदार यहां कई लोगों पर हमला कर चुका है। जिसमें कितने ही अपनी जान गंवा चुके हैं। एकबार फिर से गुलदार के हमले से लोग दहशत में आ गए हैं। आपको बता दें कि द्यांगण गांव में शाम साढ़े पांच बजे करन पुत्र सुरेंद्र सिंह अपने आंगन में खेल रहा था। तभी घात लगाए बैठे गुलदार ने उस पर पीछे से हमला कर दिया और उसे उठाकर जंगल की ओर भाग गया। ये देख गांव के लोगों ने चिल्लाना शुरू कर दिया। जिससे गुलदार गांव से 100 मीटर दूर बच्चे को छोड़कर भाग गया। परिजन बच्चे को जिला अस्पताल ले गए, जहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया। घटना के बाद से ही परिजनों में रोष व्याप्त है। उन्होंने गुलदार को मारने की मांग की है। वहीं, डीएफओ आरके सिंह ने बताया कि वन विभाग की टीम गांव भेजी गई है। यह घटना हृदय विदारक है। पीड़ित परिवार को विभाग हरसंभव मदद करेगा। गुलदार को आदमखोर घोषित करने के लिए शासन को पत्र लिखा जाएगा।
रोज 2 असमय काल के गाल में समाते जा रहे मासूमों की ओर लगता है अब न तो सरकार औऱ न हमारे माननीय ही इस भीषण त्रासदी से जनता को उबारने में कोई दिलचस्पी दिखा रहे है। स्थानीय जनों का कहना है कि भविष्य में जब भी वन विभाग कोई भी गुलदार को पके तो उस पर एक कॉलर आई डी लगाई जाए और उसे जंपड के जंगलों में न छोड़ा जाए।
सबसे बड़ी हैरानी की बात तो अब यह है कि जो गुलदार अपने हमले करने के लिए पहले अंधेरा होने का इन्तजार किया करते थे अब वे दिन के उजाले में ही सरेआम घर के आँगन से बच्चों को उठाने में जरा भी नही हिचकिचा रहे है । यह आने वाले समय के लिए इस जिले के लिए एक बेहद ख़ौफ़नाक चेतावनी है।
जनप्रतिनिधियों के कहना है कि अब समय आ गया कि सरकार उत्तराखंड में अपने वन कानूनों को कुछ लचीला बनाये ओर जनता को तुरंत राहत प्रदान करे। ताकि हमारे सीमावर्ती जिलो के गाँव आबाद रह सके और दिनदुनि रात चौगुनी बढ़ते जा रहे पलायन पर कुछ प्रभावशाली अंकुश भी लग सके। नही तो अब वो दिन दूर नही जब इन गांवों में केवल गुलदार ही गुलदार नजर आएंगे

Shares
error: Content is protected !!