September 22, 2021

सादगी से मनाई गई नंदाष्टमी

बागेश्वर। बागेश्वर जिले में नंदाष्टमी सादगी के साथ मनाई गई। कोट भ्रामरी मंदिर में सिर्फ पूजा-अर्चना की अनुमति दी गई। दुकानें आदि लगाने की अनुमति प्रशासन ने पहले से ही नहीं दी थी। लोग अराध्य देवी की पूजा के लिए पहुंचे। मंदिर परिसर में लोगों ने पूजा-अर्चना की और मां से जल्द देश को कोराना मुक्त करने की कामना की। देर शाम मां भगवती के डोले को विसर्जित किया। जिला मुयालय, दोफाड़ तथा उद्यमस्थल में भी नंदाष्टमी मनाई गई। रामलीला कमेटी के तत्वावधान में नुमाईशखेत मैदान में नंदा और सुनंदा की मूर्ति में ब्रह्ममूहुर्त में प्राण प्रतिष्ठा की गई। इसके बाद दोनों मूर्तियों को लोगों के दर्शनार्थ खोला गया। दिनभर लोगों ने नंदा और सुनंदा के दर्शन किए और पूजा अर्चना की। आयोजकों ने बताया कि इस बार कोरोना के चलते कार्यक्रम को सूक्ष्म किया गया है। उधर, गरुड़ का प्रसिद्ध कोट भ्रामरी मेला में पौराणिक परंपरा के अनुसार मां भगवती का डोला गाजे बाजे और निशान के साथ विसर्जित किया गया। लोगों का उत्साह मेले को लेकर बहुत यादा दिखाई दिया, सोमवार की रात जागरण में झोड़ा, चाचरी का आयोजन हुआ। मेला संगठन मेला डूंगरी के युवाओं द्वारा मेले में आए हुए लोगों को भोजन की व्यवस्था कराई। मेले में विधायक चंदन राम दास, भाजपा जिलाध्यक्ष शिव सिंह बिष्ट, ब्लॉक प्रमुख हेमा बिष्ट, जेसी आर्य, जिला पंचायत सदस्य जनार्दन लोहनी, बलवंत भंडारी, प्रताप नेगी, नायब तहसीलदार तितिशा जोशी, थानाध्यक्ष जीएस ढकडिय़ाल आदि लोग उपस्थित रहे। उधर, मां नंदा भगवती मंदिर दोफाड़ में नगद्रेश्वर महादेव से नंदा देवी मंदिर तक श्रदालुओं ने भव्य कलश यात्रा निकाली। कमेटी के सुरेश कालाकोटी, कुन्दन सिंह, भूपाल सिंह, भगवत सिंह, मनमोहन सिंह, हिमाशु कालाकोटी, चंदन सिंह, सुन्दर रौतेला, सहित महिला मंगल दल के अनेक कार्यकर्ता उपस्थित थे। सांस्कृतिक कार्यक्रम यहां भी नहीं हुए।

 

Shares
error: Content is protected !!