October 27, 2020

एयरपोर्ट के विस्तारीकरण को 10हजार पेड़ों के कटान का विरोध, समिति ने दिया धरना

देहरादून। जॉलीग्रान्ट एयरपोर्ट के विस्तारीकरण के लिए दस हजार पेड़ों के कटान को लेकर क्षेत्रिय जनता मुखर हो गयी है। दृष्टिकोण समिति के बैनर तले क्षेत्रवासियों ने आज थानों वन रेंज के दस हजार पेड़ों के संरक्षण हेतु ऋषिकेश रोड,जॉलीग्रांट एयरपोर्ट के समीप धरना दिया। पेड़ों को रक्षा सूत्र बांधा गया। दृष्टिकोण समिति के अध्यक्ष मोहित उनियाल ने कहा कि जॉली ग्रांट एयरपोर्ट विस्तारीकरण के लिए भारी संया में पेडों को काटने की तैयारी की जा रही है जो दुर्भाग्यपूर्ण है। उन्होंने कहा कि एयरपोर्ट विस्तारीकरण के लिए पूर्व में भी वन के बड़े हिस्से को खत्म किया गया है। अब वन विभाग द्वारा शिवालिक एलीफैंट रिजर्व के 215 एकड़ वन भूमि के हस्तांतरण का प्रस्ताव तैयार किया है। प्रस्ताव के मुताबिक इसमें कुल 9745 पेड़ कटेंगे जिसमें खैर, शीशम, सागौन, गुलमोहर व कई अन्य प्रजाति के पेड़ काटने का प्रस्ताव भेजा गया है। पेड़ों के कटान से वन में मौजूद हाथी, गुलदार, चीतल, सांभर व अन्य वन्य जीवों के भविष्य के लिए बड़ा खतरा पैदा होगा। यही नही एयरपोर्ट विस्तारीकरण के लिए दी जाने वाली जमीन राजाजी नेशनल पार्क के इको सेंसेटिव जोन के दस किमी के दायरे में पड़ती है और इसके तीन किमी के दायरे में एलीफैंट कॉरिडोर है। इतनी भारी संया में पेड़ो के कटने से डोईवाला व देहरादून क्षेत्र के मौसम में भारी बदलाव होगा। उनियाल ने कहा कि भारत एक लोकतांत्रिक देश है। अगर सरकार अथवा बड़े उद्योगपतियों द्वारा कहीं भी किसी बड़े प्रोजेक्ट की तैयारी की जाती है तो क्षेत्रीय जनता व जन प्रतिनिधियों की राय ली जाती है। उन्हें आपत्ति का समय दिया जाता है। मगर एयरपोर्ट के लिए 215 एकड वन व आवासीय भूमि हस्तांतरण करने से पहले क्षेत्र की जनता से राय नही ली गई। दृष्टिकोण समिति व देहरादून से कई अन्य एनजीओ व छात्रों द्वारा जॉलीग्रांट एयरपोर्ट के समीप चिपको आंदोलन का आगाज करके ह्यूमन चैन बनाई जाएगी । विरोध प्रदर्शन में मनीष यादव,अमित सैनी,रवि बिष्ट,राहुल सैनी,सावन राठौर आशिक अली,शुभम काबोज,आसिफ हसन,अनीश अहमद,आरिफ अली,लुकमान अहमद,सतनाम सिंह,सूरज भट्ट,आशीष चमोली,प्रतीक बहुगुणा आदि शामिल थे।

Shares
error: Content is protected !!